Header Ads Widget

चिंता जायज है...



जगजीत सिंह भाटिया
प्रधान संपादक
जवाबदेही समाचार पत्र

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की बच्चियों को लेकर जो सपने संजोये हैं, उसे धरातल पर उतारने में वो कोई कमी नहीं रख रहे हैं। महिला सम्मान अभियान के साथ अब प्रदेश में पंख अभियान की शुरुआत की गई है। भोपाल के मिंटो हॉल से राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर पंख अभियान की शुरुआत हुई और पूरे प्रदेश की बच्चियों को मुख्यमंत्री ने कहा है कि डरने की कोई जरूरत नहीं है। प्रदेश के मुखिया होने के नाते उनका ये दायित्व बनता है कि वो हर आम को खास समझकर काम करें और कर भी रहे हैं। महिलाओं और लड़कियों का सम्मान बरकरार रखने के लिए सबसे प्रमुख विभाग पुलिस पर कमान होना बहुत जरूरी है, क्योंकि यहीं से सख्ती होगी और गुंडे बदमाशों में दहशत होगी, लेकिन पुलिस का रवैया क्या सुधरने वाला रहेगा। जिस अभियान को लेकर प्रदेश सरकार का दावा कि बेटियों हम आपके लिए एक नया दौर और नया जमाना लेकर आएंगे, से जो विश्वास बच्चियों में जागा है, उसे टूटने नहीं देना भी प्रदेश सरकार की ही जवाबदेही बनती है। 

प्रदेश में सबसे ज्यादा गंभीर घटनाएं बच्चियों को लेकर हो रही है। कोई बच्चियों को नशे की लत लगा रहा है तो कोई उन्हें सेक्स रैकेट जैसे घिनौने धंधे में उतार रहा है। अभी हाल ही में एक घटना प्रकाश में आई, जिसमें लोन लेने गई बच्ची की मदद करने को लेकर उसकी अस्मत पीएनबी के मुख्य प्रबंधक ने मांगी। लोन की गुहार लेकर गई 10वीं की छात्रा से दुष्कर्म कर उसे ब्लैकमेल तक किया जाने लगा और बच्ची आत्महत्या तक करने वाली थी। इस बैंक अफसरन् ने जिस बच्ची की अस्मत लूटी, वह उसकी बेटी की ही उम्र की है, लेकिन फिर भी इंसानियत को ताक में रखकर उसने हरकत की। इस तरह के कई उदाहरण समाज में देखने को मिल जाएंगे, जिसमें बच्चियों और महिलाओं के साथ दुराचार हो रहा है। प्रदेश में कठोर कानून भी बना दिया है, उसके बावजूद समाज में ऐसी विकृति का बढ़ना चिंता का विषय है और चिंता भी जायज है कि आखिर लोग इतनी हैवानियत क्यों कर रहे हैं?

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर ही चिंता करना शायद गलत होगा, प्रतिदिन बच्चियों की चिंता करनी जरूरी है। हमारे समाज में कई प्रतिदिन कहीं न कहीं सामाजिक कार्य होते रहते हैं, क्यों नहीं इन अवसरों पर बच्चियों और महिलाओं को लेकर समाज में चिंता जताई जाती। लड़कों को भी इस बात की हिदायत दी जानी चाहिए कि वो लड़कियों और महिलाओं से आदर से पेश आए। अच्छे समाज को गढ़ने के लिए प्रयास सभी को करना होगा।