टैक्स चोरी के आरोप में जेल पहुंचे सोम ग्रुप के अरोरा बंधु खुद को बता रहे बीमार लेकिन सभी रिपोर्ट आ रही सामान्य

जेल प्रबंधन को अभी नहीं मिली कोरोना की जांच रिपोर्ट, मेडिकल जांच में मिले फिट


भोपाल। करोड़ों रुपए की टैक्स चोरी मामले में गिरफ्तार सोग ग्रुप के शराब कारोबारी जगदीश अरोरा और उसके भाई अजय अरोरा को नई जेल परिसर में आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। जेल प्रबंधन को अभी तक अरोरा बंधुओं की कोरोना जांच रिपोर्ट प्राप्त नहीं हुई है। जेपी अस्पताल प्रबंधन से जेल प्रबंधन ने जानकारियां मांगी है ताकि न्यायिक अभिरक्षा में रखे गए आरोपियों की सेहत के प्रति जरूरी इंतजाम समय पर कर लिए जाएं। उल्लेखनीय है कि तबीयत खराब होने और गिरफ्तारी से बचने के लिए टैक्स चोरी मामले में आरोपी बनाए गए जगदीश अरोड़ा उसके भाई अजय अरोड़ा ने खुद को बीमार बताकर जेपी अस्पताल में खुद को भर्ती करवा लिया था। नियमों के मुताबिक अस्पताल प्रबंधन ने आरोपियों के सैंपल कोरोना की जांच के लिए लिए थे।



नई जेल के (क) खंड में बने सेल में जगदीश अरोरा और उसके भाई को रखा गया है। इन सेल में आम तौर पर 20 लोगों को रखने की क्षमता होती है लेकिन कोरोनावायरस संक्रमण से कैदियों को सुरक्षित रखने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया जा रहा है। संदिग्ध प्रकरणों में एक साथ केवल 2 या 4 लोगों को ही सेल में रखा जा रहा है। जेल अधीक्षक दिनेश नरवाडे ने बताया कि पुरानी जेल में मेडिकल जांच की सुविधा उपलब्ध नहीं होने के चलते 24 घंटे पहले दोनों आरोपियों को एयरपोर्ट रोड स्थित नई जेल परिसर में लाया गया है। देर रात और शनिवार सुबह हुई चिकित्सकीय जांच में दोनों आरोपी स्वस्थ पाए गए हैं। उल्लेखनीय है कि गिरफ्तारी से बचने के लिए जगदीश अरोरा ने बायपास सर्जरी होने और अपने भाई की तबीयत खराब होने का हवाला देकर न्यायालय से राहत की मांग की थी। न्यायालय ने इस मामले में जेपी जिला अस्पताल से चिकित्सकीय जांच रिपोर्ट तलब की थी जिसमें अरोरा की तबीयत ठीक निकली थी।